Uncategorized

नालासोपारा के गुरु आनंद अंबेश दरबार में नवकार महामंत्र एवं जाप

संजय जैन

मुबंई () मुंबई से सटे नालासोपारा उपनगर में श्री वर्धमान स्थानकवासी जैन श्रावक संघ मेवाड़ उपसंघ नालासोपारा में प.पु. महासती डॉ चरित्रशीला जी मसा,प.पु.डॉ.भक्तिशीला जी म.सा, साध्वी रत्ना प.पु.मैत्रीशीला जी म.सा.आदि ठाणा 3 का भव्य चातुर्मास श्री संघ में उत्साह और उमंग से बड़े ही धुमधाम से चल रहा है।

नालासोपारा संघ में महासती डॉ चारित्र शीला जी म.सा.आदी ठाणा 3,के चातुर्मास में बुधवार को प.पुज्य.आचार्य श्री आनंद ऋषि जी म.सा. की 119 वी जन्म जयन्ति के उपलक्ष में नवकार महामन्त्र के नवलखा जाप की शुरुआत नवकार मन्त्र की तस्वीर व 4,कलश की स्थापना कर के हुई,जिसमे प्रथम कलश की स्थापना के लाभार्थी प्रकाश गेहरी लाल जी हिंगड़, दुसरे कलश की स्थापना के लाभार्थी मांगीलाल तेजपाल जी लोढ़ा, तीसरे कलश की स्थापना के लाभार्थी रमेश मोहनलाल जी इंटोदिया,चौथे कलश की स्थापना के लाभार्थी रमेश डालचंद जी बोहरा रहे व नवकार महामन्त्र की तस्वीर की स्थापना के लाभार्थी प्रकाश सोहन लाल जी सांखला व कुम कुम तिलक स्वास्तिक करने के लाभार्थी महावीर चांदमल जी बोहरा रहे।वही तपस्वी ललित नेमीचंद इंटोदिया का तपस्या का क्रम निरंतर आगे बढ़ रहा है।गुरुवार को 11 पचखान किया।तपस्वियों को प्रवासी एकता अखबार की और से शत:शत अभिनदंन करता है।

जाप में महिलाये लाल बांधनी की साड़ी व पुरुष सफेद पोशाक में जाप में नजर आए। संचालन रमेश बोहरा ने किया।ये जानकारी संघ उपाध्यक्ष नरेन्द्र लोढा एवं प्रवीण इंटोदिया ने दी..

प.पु. मैत्रीशीला जी म.सा. ने फरमाया कि

घंटाशंकर नाम के व्यक्ति दुकान के बाहर रात्रि में सोया था और स्वपन देखता है कि उसकी शादी हो रही है और निंद्रा में उसके हाथ ताले पर जाता है सिपाही ने देखा तो उसको ऐसा लगा कि यह चोर है और उसको एक डंडा जोर से मारा घंटाशंकर को गुस्सा आया और निंद्रा में जागा और बोला मुझे क्यों मारा सिपाही ने कहा तुम चोरी कर रहे थे क्या! तब घंटाशंकर ने कहा कि मैं चोर नहीं हु।मैं तो सोया था और कितना सुंदर स्वपन देख रहा था थोड़ा 5 मिनट बाद आता तो मेरी शादी तो हो जाती। शादी से पहले ही डंडा मार दिया सिपाही ने कहा भाई शादी से पहले ही डंडा मिल गया है सोच ले अगर शादी करेगा तो तेरे क्या हालत होगी सोचले इस रूपक (हष्ट्रान्त) के माध्यम से सोचना है कि इस संसार में अनेक समस्याओं के कितने डंडे पढ़ रहे हैं।

प. पू. श्री भक्तिशिलाजी म.स.ने श्रावक के व्रतों का विवेचन करते हुए फरमाया कि

श्रावक दो प्रकार के हैं द्रव्य श्रावक और भाव श्रावक द्रव्य श्रावक वह है जो जैन कुल में जन्म लेता है।श्रमणों की उपासना करता है।साधु भगवंतओं को प्रासुक आहार पानी का दान करता है उसे द्रव्य श्रावक कहते हैं भाव श्रावक समकित सहित श्रावक के 12 व्रत अंगीकार करते हैं। उसे भाव श्रावक कहते हैं तथा सुदेव सुगुरु सुधर्म को मानते हैं। सुदेव की व्याख्या करते हुए कहा कि इस संसार में 33 करोड़ देवी देवता है ये सभी तथा इंद्र महाराज भी जिनकी पूजा करते हैं ऐसा देवाधिदेव ही हमारे अरिहंत हैं इस प्रकार सुगुरु और सुधर्म का विश्लेषण किया है।

दर्शन हेतु बोईसरसंघ से दो बस भरकर साध्वीवृंद ठाणा 3 के दर्शनाथ पधारे

उपस्तिथ संघ

संरक्षक मदनलाल इंटोदिया,प्रमुख रमेश बोहरा,प्रकाश हिंगड़,राजेंद्र बोहरा ,संघ अध्यक्ष रमेशचंद्र इंटोदिया, निवर्तमान अध्यक्ष बाबूलाल चोरडिया,मंत्री मनीष साँखला,कोषाध्यक्ष प्रकाश साँखला,नेमीचंद इंटोदिया,ललित कगरेचा,शंकरलाल पामेचा,शांतिलाल पीपाड़ा, कन्हैयालाल लोढा,कैलाश मेहता,महेंद्र गोठी, मुकेश सिंयाल,किशोर वागरेचा,रमेश नवलखा, रोशनलाल धाकड़,गणेश इंटोदिया,अशोक लोढा,हिम्मत इंटोदिया,अशोक चोरडिया, नानालाल बडोला,बाबूलाल बडोला,प्रकाश बडोला,लक्ष्मी लाल इंटोदिया,शांतिलाल इंटोदिया,भरत बोहरा,अरविंद छाजेड़,नरेंद्र लोढ़ा,मांगीलाल लोढा,रमेश चन्द्र लोढा,मुकेश साँखला,महावीर सिसोदिया,महावीर बोहरा,कपिल बोहरा,राजेश इंटोदिया,मितेश राजावत,जीतमल पामेचा, डालचंद साँखला, ललित इंटोदिया, भगवतीलाल इंटोदिया,कमलेश इंटोदिया, भगवतीलाल कोटिफोड़ा,सोहनलाल पोखरना, सुरेश लोढा,दीपक बोहरा,बसंतीलाल चोहान, नरेश बोहरा,हीरा लाल रांका,मुकेश मादरेचा, मोतीलाल मांडोत, देवेंद्र नवलखा,मुकेश इंटोदिया,ललित इंटोदिया, जालमचंद चोहान,अभिनव साँखला,विनोद चोहान,मुकेश लोढा,लाभचंद बदामा,इंदरमल बडोला,महावीर सिंघवी,अनिल कोठारी,नरेंद्र संचेती,चौथमल कर्णावट,मुकेश सिंघवी, तेजपाल सांखला, दिलिप इंटोदिया,कुंदन इंटोदिया,लालचंद कोठारी,शांतिलाल सोलंकी, राजेन्द्र आंचलिया, कन्हैयाला चपलोत,गणेश चपलोत आदि।

नवयुवक मंडल

अध्यक्ष राकेश पामेचा मंत्री लक्ष्मीलाल इटोदिया कोषाध्यक्ष ललित कोठिफोड़ा
निवर्तमान अध्यक्ष प्रवीण इटोदिया
ललित इटोदिया, विक्की इटोदिया, विनोद इटोदिया, मितेश राजावत,राजेश इटोदिया,रौनक इटोदिया,हीरा पोखरना,कपिल मंडावत, सुशील दुगड़, हितेश इटोदिया, प्रितेश बोहरा, देवेंद्र बोहरा, दिनेश मांडोत, हितेश पामेचा, कमलेश मांडोत, मनोज सुराणा, महेंद्र गोटी, राजेश इटोदिया,सुरेश लोढा, सुरेंद्र लोढ़ा, दीपक बोहरा, गणपत नवलखा के साथ ही पूरी टीम लगी हुई थी।

महिला मंडल

अध्यक्षा लक्ष्मीबेन ईटोदिया मंत्री केलाशबेन नवलखा कोषाध्यक्ष पिंकी बेन राजावत एवं कार्यकारिणी सीताबेन ईटोंदिया ललिता सांखला लक्ष्मीबेन ईटोंदिया विद्या लोढ़ा सुशीला बोहरा मंजू ईटोंदिया मीरा ईटोंदिया लीला बोहरा कंचन लोढ़ा वनिता ईटोदिया रेखा संचेती अनीता ईटोंदिया अंजना सांखला विद्या पोखरना जतन सुराणा नारी कोटीफोड़ा कांता चोरड़िया नीता बोहरा कैलाश आचलिया आजाद वडालमिया आदि।

कन्या मंडल

मोनिका इंटोदिया पायल चौहान दिव्या लोढ़ा वनिता पोखरना बबीता मांडोत पिंकी इंटोदिया पूजा सांखला वैशाली किंजल दीशिता बोहरा हिनल अस्मिता बोहरा पूजा इंटोदिया नीलम इंटोदिया रुचि इंटोदिया दिव्या व डालमिया हेतल सांखला काजल सांखला कृषा सांखला प्रियंका चपलोत सिया जेन भूमि सियाल आंचल बोहरा

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close