Social

मुंबई सर्राफा बाजार में पहली बार सोना 40 हजार के पार

मुंबई सर्राफा बाजार में पहली बार सोना 40 हजार के पार

संजय जैन

मुंबई में 24 कैरट शुद्धता के सोने का भाव सोमवार को 40,040 रुपये प्रति 10 ग्राम हो गया

अमेरिका और चीन के बीच व्यापारिक तनाव गहराने से सोने और चांदी की कीमतों में आई तेजी

नई दिल्ली। अमेरिका और चीन के बीच ट्रेड वॉर तेज होने से सोने और चांदी की कीमत में रिकॉर्ड तेजी देखने को मिली है. हफ्ते के पहले कारोबारी दिन सोने की कीमत ने 40 हजार के मनोवैज्ञानिक स्तर को पार कर लिया. इस दौरान सोने के भाव में 1550 रुपए की तेजी आई और यह 40,220 रुपए प्रति 10 ग्राम पर पहुंच गया. जानकारों का मानना है कि अगर यह तेजी जारी रही तो अगले एक-दो दिन में ही सोना 41 हजार के पार निकल जाएगा.
धातुओं की मांग में नरमी: मेहता

इंडिया बुलियन ऐंड जूलर्स एसोसिएशन यानी आईबीजेए के नैशनल सेक्रेटरी सुरेंद्र मेहता ने बताया कि ऊंचे भाव पर महंगी धातुओं की मांग में नरमी बनी हुई है। सोने और चांदी के अगले पड़ाव के अनुमान को लेकर पूछे गए सवाल पर उन्होंने कहा कि ‘फिलहाल सोने और चांदी का बाजार न तो किसी फंडामेंटल से या एनालिसिस या चार्ट से चल रहा, बल्कि ट्रंप के ट्वीट से चल रहा है। इसलिए यह कहना मुश्किल है कि कब भाव बढ़ेगा या कब घटेगा। मगर हालिया तेजी से घरेलू मांग में 50 फीसदी की कमी आई है।’

न्यूज एजेंसी IANS से बातचीत में इंडिया जेम्स एंड ज्वेलरी फेडरेशन चेयरमैन बचराज बमलवा ने कहा यह अप्रत्याशित ऊंचाई है. हालांकि अमेरिकी बाजार की तुलना में अभी 20 फीसदी नीचे है. फिलहाल, कॉमेक्स पर सोना 1545 डॉलर प्रति औंस कारोबार कर रहा है. यह सितंबर 2011 के 1920 डॉलर के मुकाबले काफी नीचे है. बमलवा के मुताबिक, अगर मौजूदा वैश्विक राजनीतिक संकट और व्यापार युद्ध जारी रहता है तो अगले कुछ दिनों में सोना 41 हजार के पार जा रहा है. बमलवा के मुताबिक, बढ़ती कीमतों की वजह से मांग में कमी आ सकती है. त्योहारी सीजन में सोने की मांग में 10 फीसदी की कमी देखने को मिल सकती है. अगले महीने शादी के सीजन भी शुरू हो रहे हैं. भारत में शादी और त्योहारी सोने के बिना अधूरे हैं, लेकिन बढ़ती कीमतों की वजह से सोने की डिमांड में गिरावट देखने को मिलेगी. नया सोना खरीदने के बजाए लोग पुराने गहनों को ही रीसाइकिल कराने में फायदा देखते हैं. तकरीबन 25 फीसदी लोग ऐसा ही करेंगे.


क्यों बढ़ रहे हैं दाम
दरअसल, अमेरिका और चीन के बीच नई इंपोर्ट ड्यूटी शुल्क लगाने के ऐलान को लेकर ट्रेड वार फिर गहरा गया है. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने फिर चीन से इंपोर्ट 550 अरब डॉलर के प्रोडक्ट्स पर 5 फीसदी ज्यादा इंपोर्ट ड्यूटी लगाने की चेतावनी दी है. चीन ने अमेरिका से आयातित 75 अरब डॉलर की वस्तुओं पर एक सितंबर और 15 दिसंबर से अतिरिक्त आयात शुल्क लगाने की घोषणा की थी. इस हालात में दुनियाभर में निवेशक सहमे हुए हैं और वह सुरक्षित निवेश की ओर रुख कर रहे हैं. निवेशकों की नजर में सोना सुरक्षित निवेश का सबसे अच्‍छा और भरोसेमंद जरिया है. अंतरराष्‍ट्रीय बाजार के अलावा भारत में सोने के भाव बढ़ने के दूसरे कई कारण हैं. दरअसल, बीते जुलाई महीने में आम बजट पेश करते हुए मोदी सरकार ने सोने पर आयात शुल्क को 10 फीसदी से बढ़ाकर 12.5 फीसदी कर दिया है. सरकार का यह फैसला सोने के इंपोर्टर्स के लिए नई चुनौती बन गई है. यहां बता दें कि भारत अपनी जरूरत का ज्यादा हिस्सा आयात करता है. सोने के भाव में तेजी की एक और वजह भारतीय शेयर बाजार की सुस्‍त चाल है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close