Social

नन्ही परी का आना

नन्ही परी का आना

मेरे घर आई एक,

नन्ही सी परी।

खुशियां भी लाई,

वो घर में अनेक।

मेरे घर आई एक,

नन्ही सी परी।।

दादा दादी की,

वो लाडली है।

नाना नानी की भी,

वो दुलारी है

मम्मी पापा की,

तो वो जान है।
हल्का सा हंसकर वो,
सब हंसती है।।
मेरे घर आई एक,
नन्ही सी परी।
खुशियां भी लाई,
वो घर में अनेक।

बुआ चाचा को वो,
आपस में लड़ती है।
पहले में पहले में,
लेने के चक्कर में।
वो दोनों आपस में,
लड़ते हैं।
और ये सब देखकर वो,
कभी हंसती तो,
कभी रोती है ।।
मेरे घर आई एक,
नन्ही सी परी।
खुशियां भी लाई,
वो घर में अनेक।

दादीयो की तो लगी है,
घर में जमात।
उससे खिलाने को रहती है,
हर पल वो तैयार।
पर वो भी इनकी गोदो में जाने को,
रहती है हर दम व्याकुल वो।।
मेरे घर आई,
एक नन्ही सी परी।
खुशियां भी लाई,
वो घर में अनेक।।


जय जिनेन्द्र देव की
संजय जैन मुम्बई

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close