Jain News

तेरापंथ भवन रिंछेड (राज.) में शासनश्री साध्वी श्री ललितप्रभाजी का चातुर्मासिक प्रवेश

प्रवासी एकता/रवि जैन

रिंछेड। महातपस्वी आचार्य श्री महाश्रमणजी की विदुषी शिष्या शासनश्री साध्वी श्री ललितप्रभाजी आदि ठाणा 4 ने व्यसनमुक्ति के सन्देश से युक्त रैली के साथ डालचन्दजी कोठारी के निवास स्थान से शरू होकर ग्राम के विभिन्न क्षेत्रों से गुजरते हुए प्रातः 7.15 बजे चातुर्मास हेतु स्थानीय सभा भवन में प्रवेश किया। 6 वर्षो के लंबे इंतजार के पश्चात प्राप्त इस विशेष चातुर्मासिक प्रवास की खुशी वोराट क्षेत्र व रिंछेड गांव के प्रत्येक श्रावक श्राविका के चेहरे से झलक रही थी । प्रवेश के कार्यक्रम में मुंबई से सैकड़ो प्रवासियों ने यहा पहुचकर भाग लिया ।
कार्यक्रम में साध्वी श्री ललितप्रभाजी ने चातुर्मास हेतु विशेष प्रेरणा देते हुए कहा कि चातुर्मास का उपयोग धर्म आराधना , तप, जप के लिए जागरूकता से करे व अपने जीवन को सफल बनायें । साध्वी श्री अमितश्रीजी ने चातुर्मास को सम्यक ज्ञान दर्शन चारित्र में अभिवृद्धि में उपयोगी बताया । साध्वी श्री दिव्ययशाजी ने गीतिका द्वारा सभी को जागृत करने का प्रयास किया । साध्वी श्री लब्धियशाजी ने साध्वीओ के आगमन को इत्र के समान बताया जो आगमन व विदाई पर भी सुगन्ध को यही छोड़ जाती है ।
कार्यक्रम की शुरुआत महिला मंडल रिंछेड की गीतिका से हुई। कार्यक्रम में मुख्य वक़्ता श्री महेंद्र कर्णावट ने , कार्यक्रम अध्यक्ष राजकुमार फत्तावत ,अणुव्रत महासमिति के पूर्व अध्यक्ष डालचन्द कोठारी, सभा अध्यक्ष इंदरमल कच्छारा, मंत्री शांतिलाल कोठारी, समुन्दर शर्मा , राधेशयाम राणा , मांगीलाल कोठारी , सोहनलाल सिंघवी , गुणसागर धींग , रोशनलाल मादरेचा, भेरूलाल सियाल,विरक्ति कोठारी, हिम्मत कोठारी , प्रेमलता कच्छारा , ईठु देवी , कोठारी परिवार की महिलाओं आदि ने वक्तव्य व गीतिका द्वारा साध्वी श्री का स्वागत व अभ्यर्थना की।
इस अवसर पर साध्वी श्री के रास्ते की सेवा करनेवालो का व आतिथ्य प्रायोजक श्री डालचंद, विनोद ,भरत कोठारी परिवार का सम्मान भी किया गया । कार्यक्रम में नजदीकी क्षेत्र चारभुजा ,सेवन्त्री , आत्मा, पडासली, आदि क्षेत्रों से अनेक व्यक्तिओ ने भाग लिया । कार्यक्रम का आभार अणुव्रत समिति मुम्बई उपाध्यक्ष विनोद कोठारी ने किया । कार्यक्रम का सफल संचालन उपासक सोहनलाल कोठारी ने किया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close